कार्यालय अधिष्ठाता छात्र कल्याण

छात्र कल्याण हेतु कार्यालय विश्वविद्यालय प्रशासनिक भवन के भूतल में उपलब्ध है जो कि अधिष्ठाता छात्र कल्याण के नियंत्रण में कार्य करता है । :
उक्त कार्यालय मूलतः विश्वविद्यालय से संबंधित छात्र-छात्राओं की समस्या के निवारण में सहायता करता है । इन समस्याओं में अंकसूची में त्रुटियां, परीक्षा परिणाम की घोषणा में विलंब, परीक्षा परिणाम लंबित रहना, अपाधि प्राप्ति में असुविधा तथा नामांकन संबंधी समस्याए प्रमुख हैं ।
विश्वविद्यालय के विभिन्न विभागों में अध्ययनरत निर्धन छात्रों के लिए जिन्हें किसी भी प्रकार की आर्थिक सहायता अन्य संस्थाओं या विभागों से प्राप्त नहीं होती उन्हें छात्र कल्याण कोष से सहायता प्रदान की जाती है । छात्र कल्याण कोष से सहायता प्राप्त करने के लिए छात्रों को संबंधित अध्ययनशाला के विभागाध्यक्ष द्वारा अग्रेषित पत्र निम्नालिखित सत्यापित प्रमाण पत्रों सहित अधिष्ठाता छात्र कल्याण कार्यालय को भेजना होगा - शुल्क जमा की गई रसीद की मूल प्रति, आय-प्रमाण पत्र (वार्षिक), अध्ययनशाला द्वारा प्राप्त परिचय पत्र की छायाप्रति, बी.पी.एल. कार्ड धारी हो तो उसकी प्रति, राशन कार्ड की छायाप्रति, पटवारी या पार्षद का प्रतिवेदन, मूल निवास प्रामाण-पत्र की छायाप्रति, जाति प्रमाण-पत्र की छायाप्रति एवं अंकसूचियों की छायाप्रति । साथ ही इस बाबत एक शपथ पत्र प्रस्तुत करना होगा कि उसे किसी अन्य संस्था या विभाग से कोई वित्तीय सहायता प्राप्त नहीं हो रहा है । छात्र कल्याण कोष सहायता की राशि का निर्धारण समिति के द्वारा किया जाता है ।